आंखों के ख्वाब, दिल के अरमान हो तुम Breakup Shayari

जब किसी का दर्द हद्द से गुज़र जाता है
तो समुन्दर का पानी आंखों में उतर आता है,
कोई बना लेता है रेत से आशियाना तो,
किसी का लहरों में सब कुछ बिखर जाता है।
💔💔
💔💔💔
तुम बस उलझे रह गए हमें आज़माने में,
और हम हद से गुज़र गए तुम्हें चाहने में।
🥀🥀
🥀🥀🥀

Breakup Shayari

breakup-shayari

कसमें वादे शायरी

उनके दीदार के लिए दिल तड़पता है,
उनके इंतज़ार में दिल तरसता है,
क्या कहें इस कम्बख्त दिल को,
अपना हो कर किसी और के लिए धड़कता है।
💖💖
💖💖💖
जाना कहां था और कहां आ गए,
दुनिया में बन कर मेहमान आ गए,
अभी तो प्यार की किताब खोली थी,
और न जाने कितने इम्तिहान आ गए।
💕💕
💕💕💕
दिल की किताब में गुलाब उनका था,
रात की नींद में ख्वाब उनका था,
कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा,
मर जायंगे तुम्हारे बिना ये जबाब उनका था।
🌹🌹
🌹🌹🌹

Koi Achhi Si Saza Do Mujhko, Breakup Shayari

कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,
चलो ऐसा करो भुला दो मुझको,
तुमसे बिछदूँ तो मौत आ जाये,
दिल की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको।
💘💘
💘💘💘
दिल टूटेगा तो फरियाद करोगे तुम भी,
हम न रहे तो हमें याद करोगे तुम भी,
आज कहते हो हमारे पास वक़्त नहीं हैं,
पर एक दिन मेरे लिए वक़्त बर्बाद करोगे तुम भी।
💓💓
💓💓💓

Kasme Waade Shayari आदत बदल दूँ कैसे तेरे इंतज़ार की

आदत बदल दूं कैसे तेरे इंतेज़ार की,
ये बात अब नही है मेरे इख्तियार की,
देखा भी नही तुझ को फिर भी याद करते है,
बस ऐसी ही खुश्बू है दिल मे तेरे प्यार की।
💞💞
💞💞💞
दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया,
मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया,
दिल के सोदागरो से दिल्लगी कर बैठे,
शायद इसीलिए मेरा प्यार इक अल्फाज बनकर रह गया।
❣️❣️
❣️❣️❣️
breakup-shayari
हमारे शहर आ जाओ सदा बरसात रहती है,
कभी बादल बरसते हैं कभी आंखें बरसती हैं।
💔💔
💔💔💔

Kaash Hum Mohabbat Nahi Teri Aadat Hote, Best Breakup Shayari

बरसों बाद भी तेरी ज़िद की आदत नहीं बदली,
काश हम मोहब्बत नहीं, तेरी आदत होते।
💗💗
💗💗💗
आंखों के ख्वाब दिल के अरमान हो तुम,
तुमसे ही तो मैं हूं, मेरी पहचान हो तुम,
में ज़मीन हूं, अगर मेरे आसमान हो तुम,
सच मानो मेरे लिए सारा जहान हो तुम।
🌷🌷
🌷🌷🌷

दुनियां में इतनी रस्में क्यों हैं... क़समें वादे शायरी

दुनियां में इतनी रस्में क्यों हैं,
प्यार अगर ज़िन्दगी है तो इसमें इतनी कसमें क्यों हैं
हमें बताता क्यों नहीं यह राज़ कोई,
दिल अगर अपना है तो किसी और के बस में क्यों है।
💘💘
💘💘💘
उनसे कह दो सज़ा कुछ कम कर दे हमारी,
पेशे से मुजरिम नहीं,
गलती से इश्क़ कर बैठे हैं हम।
💖💖
💖💖💖

Post a Comment